Android Technology Awareness Blog # 21 : Why actually Mobile Phone Blast? Explained.

दोस्तों, हमने कई बार ऐसी खबरें सुनी है की Mobile phone blast हो गया. और जो mobile blast हुवा है उसका पूरा इल्जाम हम उस mobile compony के माथेपे फोड़ देते है.

पर सोचने वाली बात ये है, की ये mobile phone आखिर blast क्यों होता है?

इस article में हम इस problem के जड़ तक जाने की कोशिश करेंगे.

दोस्तों, अगर technology की बात की जाये तो, पिछले कुछ सालोंमें technology बहोत ज्यादा विकसित हुई है और आज भी काफी अच्छी तरक्की कर रही है.

लगभग सारे electronic gadgets आज latest technology को अपनाये हुवे है, फिर वो चाहे computers हो, laptops हो, TV हो, fridge हो या फिर हो हमारा smartphone.

पर जब बात आती है battery की, तो इस case में हमने ज्यादा तरक्की नहीं की है.

हम आज भी वही technology इस्तेमाल कर रहे जो हम ५-१० साल पहले करते थे.

अब जब हम बात करते है mobile phone blast होने की, तो असल में वो mobile phone नहीं फटता, उस mobile phone की battery फट जाती है.

वो battery क्यों फटती है, ये जानेसे पहले हम देख लेते है की वो आखिर काम कैसे करती है.

Mobile battery काम कैसे करती है?

हमारे smartphone में जो batteries होती है, वो होती है lithium Ion से बनी हुई.

Lithium ही क्यों, वो इसीलिए क्यूंकि lithium battery काफी हलकी होती है और उसमे काफी ज्यादा energy stored करने की क्षमता होती है.

इसी कारण हम बरसों से इसी lithium Ion batteries को इस्तेमाल करते आ रहे है.

Battery के काम करने के तरीके को आसान भाषा में समझे तो…

हर battery में दो electrodes होते है. एक होता है positive electrode और एक होता है negative electrode.

Positive electrode को हम बोलते है Cathode और negative electrode को हम बोलते है Anode.

हम जब Mobile phone charge करते है तो cathode में जो electrons या ions होते है, वो anode की तरफ जाते है.

जब सारे ions anode में पहुंच जाते है, तब battery full charged होती है.

और जब हम Mobile phone इस्तेमाल करते है, तो वो ions anode से cathode की तरफ जाते है.

जब सारे ions cathode में पहुंच जाते है, तो battery full discharged होती है.

ये दोनों electrodes बहोत ही powerful होते है.

तो वहाँपे उन दोनों electrodes के बीच होता है electrolyte, जो Battery में बहोत ही एहम भूमिका निभाता है.

ये electrolyte या तो gel हो सकता है या फिर कोई liquid हो सकता है.

दोनों electrodes में जो ions move होते है उनके speed को control करने का काम ये electrolyte करता है.

आज हमे क्या चाहिए?

आज के तारीख में अगर देखा जाये तो हमारे smartphones दिन बर दिन बेहतर होते जा रहे है और अविश्वसनीय ऐसी technology हमे मिल रही है.

ऐसेमें हम दिन का ज्यादातर वक़्त Smartphone इस्तेमाल करने में लगे होते है.

Smartphone का जितना ज्यादा इस्तेमाल होगा, Battery की खपत भी उतनीही ज्यादा होगी.

इस जरुरत को मद्दे नज़र रखते हुवे, आज Smartphone companies higher density वाली batteries बनाने में लगी पड़ी है.

कुछ सालों पहले 1500-2000 mAh capacity की batteries हुआ करती थी, पर आज उस Battery की capacity 5000 mAh से भी आगे जा चुकी है.

उपर से Smartphone की मोटाई याने thickness कम से कम रखने की कोशिश की जा रही है.

क्यूंकि आज के तारीख में Smartphone जितना ज्यादा पतला होता है उसकी demand उतनीही ज्यादा होती है.

मतलब एक तरफ हम Battery capacity बढ़ा रहे है और दूसरी तरफ उसकी size भी काम कर रहे है.

याने Smartphone companies आज कम size वाले batteries में ज्यादा से ज्यादा energy ठूसने में लगे पड़े है.

और तो और ज्यादा capacity होने के कारण उस Battery को चार्ज करने के लिए fast charging का उपयोग भी किया जा रहा है.

Mobile phone blast क्यों होता है?

कम से कम size में बनने वाली higher density batteries, fast charging का सपोर्ट और बढ़ता हुआ हमारा Smartphone usage.

Fast charging और fast Battery draining से हो क्या रहा है, जो ions cathode और anode के बीच travel करते है, उनकी speed बढ़ रही है.

ये speed ज्यादा होने के कारण जो electrolyte होता है उसकी जिम्मेदारी बढ़ जाती है और वो कमजोर होने लगता है.

इस जिम्मेदारी को ठीक तरीके से संभालने के लिए जो batteries बनती है…

उन्हें काफी सारी research, study, accurate calculations, perfect design, accurate manufacturing और बेहतरीन packaging की जरुरत होती है.

इस process में जरा भी गलती की गुंजाईश नहीं होती.

अगर इस दौरान थोडीसी भी गलती हुई, calculations गलत हुए या manufacturing ठीक से नहीं हुई, तो वो जो Battery बनती है वो बहोत ही कमजोर बनती है.

Lithium की बात करें तो बहोत ही unstable होता है.

तो जब कमजोर Battery के charging के समय जो heat generate होती है, उसके कारण बहोत ही extreme condition में heat काफी ज्यादा बढ़ जाती है.

उससे जो electrolyte होता है वो और ज्यादा कमजोर हो जाता है…

cathode-anode के बीच घूम रहे Ions को वो control नहीं कर पाता…

और Mobile phone blast हो जाता है.

इससे बचने के लिए हमें Smartphone overheating होनेसे रोकना है. उसके लिए हमे क्या करना चाहिए?

पढ़े… Mobile overheating solutions

Submit your review
1
2
3
4
5
Submit
     
Cancel

Create your own review

The Android Artist
Average rating:  
 0 reviews

2 Comments

  1. This is really very nice and informative article.
    Thanks for sharing this and keep posting amazing article like this.

    1. Author

      Thank you so much Aman. You will definitely get amazing information from this website. Thanks once again.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *