Android Technology Awareness Blog # 35 : 11 Types of Smartphone Display | TFT vs IPS vs AMOLED vs RETINA

दोस्तों, जब हम कोई भी नया smartphone खरीदने की सोचते है, तो हम उस smartphone में कौन कौनसी चीज़ें देखते है?

वह Smartphone दिखने में अच्छा हो, उसका Processor बढ़िया हो, उसकी RAM बढ़िया हो, Storage काफी हो और Camera तो ज्यादा से ज्यादा Megapixel का हो, है ना?

पर एक सबसे जरुरी बात जिसपे हम गौर करना भूल जाते है वो है Smartphone Display Types.

हमारे स्मार्टफोन का यही एक component ऐसा है जिसपे हम हर वक़्त कम करते रहते है और जिसे हम सबसे ज्यादा इस्तेमाल भी करते है.

आपने smartphone के description में TFT LCD, IPS LCD, AMOLED जैसे नाम तो पढ़े ही होंगे.

बहुत सारे लोगों मेंSmartphone Display Types के बारेमें ज्यादा जानकारी भी नहीं होती.

तो इस article में हम Smartphone Display Types के बारेमें बात करेंगे.

तो चलिए, Get’s Started.

Types of Smartphone Display

दोस्तों, अगर हमे smartphone का display choose करना है तो हमें 4 बातों पर ख़ास ध्यान देना पड़ता है.

  1. Screen Size
  2. Screen Resolution
  3. Screen Type
  4. PPI

Screen size, Screen resolution और PPI के बारेमें आपको अधिक जानकारी चाहिए तो आप यहां click करें.

यहां हम बात करने वाले है Screen Types के बारेमें.

.

LCD Display

LCD का मतलब है Liquid Crystal Display.

ये एक ऐसी चीज है जो हम पिछले काफी सालोंसे देख रहे है.

ये Technology हम बरसों से हमारे computers में इस्तेमाल करते आ रहे है.

पुराने जमानें में हमारे पास CRT (Cathode Ray Technology) Display हुआ करते थे.

उसके बाद उसकी जगह LCD Display ने ली.

LCD ये एक Liquid Crystal Molecules का panel होता है.

इसमें एक particular pattern में लगाया होता है.

वो चाहे तो block shape जैसा हो सकता है या फिर किसीभी और shape में हो सकता है.

ये crystals खुद से कोई भी light generate नहीं करते.

Light generate करने के लिए इस Pattern के पीछे एक backlight लगी होती है.

इसी backlight और pattern की बदौलत हमें screen पर colors और बाकि details देखने मिल जाती है.

ये backlight जरुरत के हिसाब से adjust हो जाती है, पर ये पूरी screen पर एक ही जैसी रौशनी देती है.

इसके कारण आपको यहां contrast ratio में थोड़ा फर्क नज़र आ सकता है.

यहाँ आपको Charcoal Black (100 % Black) Colour देखने नहीं मिलेगा.

Charcoal Black Colour की जगह यहां आपको Dark Grey Shade देखने मिल जाती है.

.

.

Twisted Nematic panel

Smartphone की बात करें तो कुछ सालों पहले TN panel (Twisted Nematic panel) के Mobile Display हुआ करते थे.

इस panel के Display कुछ सालों पहले काफी सस्ते Mobile Phones में देखनेको मिल जाते थे.

इस Display का thickness काफी मोटा हुआ करता था.

इससे battery की खपत भी काफी ज्यादा होती थी और अगर बात करें viewing angles की, तो वो भी इतने कुछ ख़ास नहीं थे.

TFT LCD

TFT LCD का मतलब है Thin Film Transistor LCD.

TFT LCD ये एक बहोत ही Common Display Type है, जो बहोत सारे Smartphone में लगे होते है.

पहले के LCD Display के मुकाबले TFT LCD ये एक बहोत ही अच्छी image quality और ज्यादा resolution देता है.

पर यहां सिर्फ एक दिक़्क़त है, अगर हम viewing angles पर नज़र दे तो धूप में जहां हमें direct sunlight मिलती है, वहा इसकी performance इतनी अच्छी नहीं मिलती.

Power consumption के मामले में भी TFT LCD ज्यादा power लेते है.

पर manufacturing cost काफी काम होने के कारण सस्ते और budget smartphones में TFT LCD बहोत ही आसानीसे देखने मिल जाते है.

.

.

IPS LCD

IPS LCD का मतलब है In-Place Switching LCD.

अगर हम IPS LCD को TFT LCD से compare करें, तो viewing angles और power consumption के मामले में IPS LCD बाज़ी मार लेता है.

जिसके चलते आपको एक बेहतर Battery Life मिल जाती है.

पर अगर हम बात करते है Manufacturing cost की तो IPS LCD थोड़ा महंगा होता है.

जिसके कारण आपको सस्ते और budget smartphones में IPS LCD काफी कम देखने मिल जाता है.

.

Resistive Touchscreen LCD

अगर हम Touchscreen के बारेमें बात करें तो 2 types की LCD Touchscreen होती है.

एक होती है Resistive Touchscreen और दूसरी होती है Capacitive Touchscreen.

Resistive Touchscreen ये conductive material के 2 layers से बनी होती है जिसमे बहोत ही कम gap होता है, जो एक resistant का काम करती है.

Smartphone operate करते समय जब हम अपने fingers से या फिर Stylus से screen पर touch करते है, तब ये दोनों layers एक दूसरे से टकराती है, और जिस point पर हमने touch किया है वहां एक circuit बन जाता है.

ये information आगे चलते processor के पास जाती है जो इसे smartphone के Operating System तक पहुँचा देता है.

Resistive Touchscreen इतनी ज्यादा sensitive नहीं होती, जिसके कारण कभी कभी touch किये हुए point की accuracy perfect नहीं मिलती.

.

Capacitive Touchscreen LCD

Resistive Touchscreen के मुकाबले Capacitive Touchscreen बहोत ही ज्यादा sensitive और accurate होती है.

ये एक transparent conductor के पतले glass layer से बनी होती है.

जब एक Capacitive Touchscreen को हम अपने finger से touch करते है, तो screen के electrostatic field में एक रुकावट बनाई जाती है.

जो smartphone के processor या chip द्वारा पता लगाया जाता है और जो बदले में smartphone के Operating System को trigger करने का निर्देश देता है और उस calculation के बाद screen पर action हो जाता है.

..

LED Display

LED का full form है Light Emitting Diode.

Technology की बात करे तो ये LCD technology से मिलती जुलती ही है, पर यहां फर्क सिर्फ इतना है, की यहाँ कोई भी backlight नहीं होती.

LCD की तरह यहां भी crystals का pattern होता है, पर ये crystals खुद ही अपनी Light Generate कर सकते है. इन्ही crystals को यहां Diodes कहा गया है.

Backlight ना होने के कारण, जहां जरुरत नहीं होती, वहा diodes अपनी Light Generate नहीं करते.

जिसके बदौलत आपको यहां Charcoal dark याने 100% Black कलर देखने मिल जाता है.

और यहां Light Generate ना होने कारण power consumption भी काफी कम होता है.

.

.

OLED

OLED का मतलब है Organic Light Emitting diode.

इस technology में 2 conductive sheets (जिसमे एक होता है Cathode और दूसरा anode) के बीच में एक carbon की बनी organic layer होती है.

जब electric current इन दोनों conductive sheets पर apply होता है, तो उस carbon से बनी organic layer में electro-luminscent Light Generate होती है.

इसी Light के चलते हम Smartphone के screen पर colours और detailing देख सकते है.

Brightness और colours की बात करें तो ये electric pulse के उपर depend करता है.

OLED को LCD से compare करें तो OLED काफी बेहतरीन performance देती है.

Amazing colour reproduction, fast response time, बेहतर viewing angles, ज्यादा brightness और light weight design के चलते OLED किसी भी LCD display से बेहतर बन जाती है.

.

.

AMOLED

AMOLED का full form है Active-Matrix Organic Light-Emitting diode.

OLED की तरह ही AMOLED में साड़ी खूबियां है, जो की OLED से बेहतर और advanced level technology हे.

AMOLED की popularity आज आसमान छू रही है.

AMOLED का बेहतरीन colour reproduction, fast response time, बेहतर viewing angles, ज्यादा brightness, बेहतरीन battery life और Light weight design इसे चार चाँद लगता है.

अगर Thickness की बात करें तो OLED display के मुकाबले AMOLED display काफी पतला होता है.

Thickness कम होने के कारण power consumption भी काफी कम होता है.

इस बेहतरीन technology की बदौलत आज AMOLED display के smartphone की demand बहोत ही ज्यादा है और आज की तारीख में AMOLED display अपने लिए एक milestone तय कर चूका है.

.

.

Super AMOLED

Super AMOLED ये नाम जानकर तो आपको अंदाजा आ ही गया होगा की आज की तारीख में Smartphone display की technology कौनसा मुकाम हासिल कर चुकी है.

Super AMOLED display ये AMOLED display का advanced version है जो की Samsung ने ईजाद किया है.

यहां display की sensitivity इतनी ज्यादा बढ़ जाती है की touch sensors के लिए किसी भी और capacitive layer की जरुरत नहीं पड़ी.

आज के तारीख में Smartphone market में Super AMOLED ये सबसे thin display technology बन चुकी है.

.

.

Retina Display

कुछ सालों पहले जब Apple ने Retina Display का iPhone4 launch किया था, तो एक हौव्वा सा मच गया था, की भाई Retina Display ही सबसे best है.

पर असलियत में Retina Display ये सिर्फ एक marketing term है, जो Apple ने customers को attract करने के लिए इस्तेमाल की थी.

वैसे देखा जाये तो ये सिर्फ एक IPS LCD Display Screen है, जिसके पीछे backlight लगी होती है.

Retina Display की pixel size है 640 x 960, जो की iPhone4 के launch के वक़्त काफी ज्यादा थी.

पर आज Smartphone technology इतनी ज्यादा विकसित हुई है की Smartphone Display की pixel size आज 2K तक पहुँच चुकी है.

तो दोस्तों, Retina Display का गुब्बारा आज फुट चूका है.

अब आपको Smartphone Display types के बारेमें अच्छी खासी जानकारी मिल गयी होगी. अब जब भी कोई आपसे टफ्ट, IPS Display या AMOLED Display के बारेमें पूछे तो आप उसे भी इस technology के बारेमें aware कर सकते है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *