Android Technology Awareness Blog # 26 : Gorilla Glass Explained.

दोस्तों, हम जब भी कोई नया smartphone खरीदते है, तो सबसे पहले सोचते है उसके Protection के बारेमें.

वो इसीलिए क्यूंकि हम चाहते है की हमारे smartphone को कोई नुक्सान ना हो और वो लम्बे समय तक चले.

हम smartphone की Protection के लिए दो चीज़ें खरीदते है. एक होता है back cover, जो smartphone के body को protect करता है. और दूसरा होता है Screen Guard, जो Screen पर scratch होने से बचाता है.

पर आज लगभग सभी smartphones में हमें Gorilla Glass Protection मिल जाता है.

तो क्या ये Gorilla Glass हमारे smartphones के Screen को वाकही में protect करती है?

अगर protect करती भी है तो कितने हद तक कर सकती है?

और अगर हमे अपने smartphone के साथ Gorilla Glass Protection मिल रहा है.

तो क्या हमें किसी दूसरे Screen Guard को इस्तेमाल करना चाहिए या नहीं?

जानेंगे इस article में. तो चलिए, Get’s Started.

 

Gorilla glass होती क्या है?

दोस्तों, जब हम किसी भी चीज़ के hardness की बात करते है, तो उसे एक Scale में नापा जाता है जिसे हम बोलते है Mohs Scale.

ये Scale होती है 1-10 तक.

जहा Scale 1 पर होता Talc और Scale 10 पर होता है Diamond.

 

 

दुनिया में जितनी भी चीज़ें है, फिर वो चाहे natural हो या फिर man-made ho, उस चीज़ की hardness इस Scale पर नापी जाती है.

Gorilla glass की hardness होती है 6.5.

तो यहाँ होता ये है, जिन चीजोंकी hardness 6.5 से कम है, उससे gorilla glass पर scratches नहीं आएंगे.

पर जिन चीजोंकी hardness 6.5 से ज्यादा है, उससे gorilla glass पर scratches जरूर आएंगे.

हम अगर smartphone के screen पर keys, coins या फिर किसी चाकू से scratch करने की कोशिश करेंगे तो वहाँ scratches नहीं आएंगे, क्यूंकि उनकी hardness scale 6.5 से कम होती है.

पर अगर हम बात करें sand के बारेमें, तो sand की hardness scale होती है 8.5. ऐसेमें sand से screen पर scratches पड़ना आम बात है.

 

Types of Gorilla Glass

Gorilla Glass बनाने वाली company का नाम है Corning.

Corning company नहीं कहती के ये scratch proof है. वो कहती है की ये scratch resistant है.

इसका मतलब ये नहीं के gorilla glass पर scratches पड़ेंगे ही नहीं. scratches जरूर पड़ेंगे पर उसकी intensity कम रहेगी.

हमने कई बार gorilla glass 4, gorilla glass 5 जैसे नाम सुने ही होंगे.

लोगोंको लगता है की gorilla glass 5 जो है वो 4 से बेहतर है और वो Screen को बेहतर Protection देता है. तो भाई ऐसा नहीं है.

Gorilla glass 3, 4 या 5 में Screen Protection के मामले में कोई भी difference नहीं होता.

इन सारे types की hardness Scale 6.5 ही होती है.

फर्क सिर्फ इनके thickness और flexibility में होता है.

याने gorilla glass 4 की thickness 3 के मुकाबले कम है और उसकी flexibility ज्यादा है.

Corning company ने same power maintain करते हुवे उसकी thickness कम करने की कोशिश की है.

 

क्या हमे Gorilla Glass Protection होने के बावजूद भी Screen Guard लगाना चाहिए?

जी हाँ. जरूर लगाना चाहिए.

पहली बात ये की इससे ना तो हमे कोई नुक्सान होने वाला है, ना ही हमसे ज्यादा पैसे खर्च होने वाले है.

पर smartphone के Screen की बात करें, तो अगर Screen damage होती है और अगर हम उसे replace करने जाये, तो हमें ये बहोत ही महंगा पड़ सकता है.

क्यूंकि हमारे smartphone में Screen ही ऐसा component है जो ज्यादा महंगा होता है.

 

सस्ते से सस्ते smartphone की भी बात करें, मान लीजिये 5000 का phone है, फिर भी उसके screen replacement करने का खर्चा 3000-3500 तक आ जाता है.

महंगे smartphone की बात करें तो 40000 क़ीमत वाले smartphone का screen replacement भी 15000-20000 रुपये तक जा सकता है.

और रही बात screen guard की तो उसकी कीमत होती है 100-200 रुपये.

तो 100-200 रुपये के लिए 20000 रुपये तक का रिस्क क्यों उठाये?

अगर आप कोई screen guard लगा रहे हो, तो उसे 5-6 महीने इस्तेमाल करने के बाद आप उसे replace भी कर सकते है. वो बड़ीही आसानीसे निकल भी जाता है.

दोस्तों, मुझे उम्मीद है की आपको gorilla glass के बारेमें काफी कुछ पता चल गया होगा.

अगर आपको ये article अच्छा लगा हो तो इसे rewiew देना ना भूलियेगा. आपका बहुमूल्य वक़्त देने के लिए शुक्रिया.

 

Submit your review
1
2
3
4
5
Submit
     
Cancel

Create your own review

The Android Artist
Average rating:  
 0 reviews

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *